संदेश

#अंधा_कानून

चित्र
भेड़ियों का हुजूम है
आंखों में पड़ी धूल है
ये #अंधा_कानून है
ना है रखवार
ना कोई रखवारी
वर्दियों के भेष में
यहां घूमते शिकारी
किसकी गई जान
और कौन हत्यारा यहां
किसको फिकर कि है
कौन गया मारा यहां
मुंह बंद करके यहां
हर कोई मौन है
ये #अंधा_कानून है
थी जिनके जिम्मे हमारी रखवारी
वही बन बैठे हैं आज शिकारी
है ना देना वाला कोई जवाब
आखिर गई क्यों निर्दोष की जान
ये #अंधा_कानून है
#हत्यारी_पुलिस

🚩 राम ही राम 🚩

दोहरा चरित्र

चित्र
🚩 मध्यम वर्ग की कमर तोड़ कर बोलो क्या कुछ पाओगे
🚩
एससी एसटी का जहर घोल बोलो तुम क्या
दिखलाओगे
🚩
वर्ग विशेष की खातिर आखिर कबतक अत्याचार करोगे
🚩
वोट बैंक की राजनीति में कबतक निर्दोषों पर वार करोगे
🚩
कहे सत्येन्द्र सुन लो मोदी जी इसका परिणाम बुरा होगा
🚩
निर्णय वापस लिया नहीं तो महासंग्राम शुरू होगा
🚩
🚩 राम ही राम 🚩

आज का समाजवाद

चित्र
भारत की संस्कृति के जो हत्यारे हैं
वो राष्ट्रवाद का ज्ञान सिखाने वाले हैं
जो जन्मभूमि कारसेवक के हत्यारे हैं
वो लोकतंत्र का ज्ञान सिखाने वाले है
जो सरकारी धन को खाने वाले हैं
वो भी संसद मे प्रश्न उठाने वाले हैं
जो परिवारवाद की राजनीति के मारे हैं
वो मर्यादा की सीख सिखाने वाले हैं
जो संतो की 84 कोसी परिक्रमा से हारे है
अब मंदिर निर्माण की तारीख पूछने वाले हैं
🚩 राम ही राम 🚩

एससी एसटी एक्ट

चित्र
इस एक्ट का प्रभाव कहीं ना कहीं आम जनमानस पर बल्कि यूं कहें कि पूरे समाज पर पड़ेगा और इसका दुरुपयोग भी होगा खैर इसकी जिम्मेदार केवल सरकार नहीं बल्कि आमजन की भी हैं  आपसी वैमनस्य साधने के लिए इस एक्ट का प्रयोग एक हथियार की तरह ना केवल सवर्ण बल्कि हर वर्ग ने किया है तो क्या इस एक्ट का विरोध अनुचित है नहीं यदि किसी घाव को छोड़ दिया जाए तो वह नासूर बन जाता है ठीक वैसे ही यदि इसका विरोध ना किया गया तो वक्त के साथ यह और भी संगीन हो जाएगा कहीं वैमनस्य के चलते तो कहीं जातिगत भावना के चलते इसका दुरुपयोग होगा और सामाजिक विघटन की स्थिति उत्पन्न होगी समाज के भले के लिए इस एक्ट में कुछ बदलाव आवश्यक हैं ताकि इसके दुरुपयोग की संभावना को कम किया जा सके 🚩 राम ही राम 🚩

सांसद निधि

चित्र
सांसद निधि में आदर्श ग्राम के नाम पर जारी होने वाले करोड़ों रुपयों का दुरुपयोग जिस प्रकार सांसदों द्वारा किया जा रहा है यह चिंता का विषय है
हकीकत यह है कि सांसद जी का आदर्श गांव
आदर्श तो छोड़िए सामान्य गांव भी ना हो सका
हालत जस की तस है
सांसद निधि में क्षेत्रों के विकास के नाम पर जारी होने वाली रकम #2_करोड़ से बढ़ाकर #5_करोड़ कर दी गई लेकिन संसदीय क्षेत्रों की दशा नहीं बदली
बुनियादी ढांचा आज भी जस का तस है
फिर करोड़ रुपयों के बेजा बजट की क्या आवश्यकता सरकार को इस पर विचार कर इसे बंद कर देना चाहिए

देशभक्ति

देशभक्ति
क्या यह भावना दिन विशेष की मोहताज है
जी नहीं तो फिर क्या है देशभक्ति
देशभक्ति का अर्थ यह नहीं कि आप प्रभात फेरी का हिस्सा ही बनिए बल्कि देशभक्ति वह है
जो अगली सुबह सड़क के किनारे पड़े झंडे को उठाकर किसी उचित स्थान पर रख दीजिए
कहीं आप जा रहें हो और यदि कोई टोटी खुली हो तो उसे बंद कर दीजिए
 किसी बेसहारे व्यक्ति का यथोचित सहयोग कर दीजिए
अपने कर्तव्य का राष्ट्र एवं परिवार के प्रति निर्वाहन
स्वच्छता में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेकर भी आप देशभक्ति का प्रदर्शन कर सकते हैं
देशभक्ति के इस जज्बे को दिन विशेष का मोहताज मत बनाइए बल्कि इसे जीवंत रखिए अपने ह्रदय में
#सत्येन्द्र_शुक्ला की ओर से
स्वतंत्रता दिवस की अग्रिम शुभकामनाएं
जय हिंद
🚩 राम ही राम 🚩
वंदेमातरम्
🇮🇳भारत माता की जय 🇮🇳

सैन्य सेवा से युवाओं का मोहभंग

चित्र
रक्षामंत्री द्वारा सदन में प्रस्तुत आकड़ों के अनुसार तीनो सशस्त्र बल में करीब 52000 पद रिक्त हैं
ये आकड़े ना सिर्फ चिंताजनक हैं बल्कि गंभीर भी हैं
सबसे अधिक युवाओं की संख्या वाले देश में यदि युवाओं का सैन्य सेवा के प्रति झुकाव कम हो तो यह विचारणीय तथ्य है सरकार और राष्ट्र दोनों के लिए
इसमें सुधार के लिए आवश्यक है कि सैन्य सेवाओं की शर्तें अन्य क्षेत्रों से बेहतर और युवाओं की रुचि के अनुरूप हो।
सामाजिक संरचना में हो रहे बदलाव के साथ सैन्य मानदंडो में भी बदलाव की आवश्यकता है
युवाओं के देश में सेनाबल की कमी
ना सिर्फ चिंतनीय बल्कि निंदनीय भी है